Jana Mana

मान अपमान

जीत की इच्छा छोड़ो तो अभी जीत जाओ


मान ना चाहो तो अपमान कैसा